Tuesday, August 10, 2010

पर्व आजादी का






निकली वो घर से
कॉलेज के लिए
थी रास्ते में
बजी सिटी
उड़ी फब्ती
नजर तक ना उठा सकी
चुनरी संभालती
तेज क़दमों से
पहुंची सिटी बस स्टैंड
एक कागज की पुड़िया
टकराई उस से
और गिरी पैरों में
डरते हुए उठाई
खुलते ही पुड़िया
माथे पर पडी सलवटें
सलवटों के बीच
छिपती बूंदे
पसीने की
कांपे हाथ
छूटी पुड़िया
फिर गिर पडी पैरों में
आई बस
लगी लाईन
चढ़ी वो बस में
पीछे से आता धक्का
वो सकुचा के रह जाती
हर बार कोई टकराता
घबरा के रह जाती
इसी बीच कोई हाथ
छू कर निकाल गया
पर ये वाकया
सिर्फ एक बार नहीं हुआ
वो सिमटती रही
सरकती रही
हाथ तो बदला
पर हरकत वही रही
रुकी बस
वो उतर
चली कॉलेज की ओर
कुछ कदम कर रहे थे
उसके कदमों का पीछा
फर्राटे से भागती एक बाइक
आया झपटा
जो ले उड़ा उसका दुपट्टा
किसी तरह हाल तक पहुंची
जहाँ मनाया जा रहा था
पर्व आजादी का...!





103 टिप्पणियाँ:

arun c roy said...

हमारी बहने रोज़ ही ये झेल रही हैं.. घर के भीतर और बाहर. दहशत का मौन साया उनका पीछा करता रहता है.. बहुत सार्थक कविता.

shailendra said...

Dimple ji,
aapki is marmik rachna ne dil ko jhakjhor kar rakh diya bahut acha likhti hain aap

दीनदयाल शर्मा said...

कथा कविता पढ़ कर मन भर उठा...ये कैसी आजादी...सच में हम आजाद नहीं हैं..आज आजादी के मायने ही बदल गये........बेटियों को जागने की जरूरत है........इनके भीतर की आजादी को बाहर लाने की जरूरत है........तभी बदलेगा समाज ..

कविता रावत said...

कुछ कदम कर रहे थे
उसके कदमों का पीछा
फर्राटे से भागती एक बाइक
आया झपटा
जो ले उड़ा उसका दुपट्टा
किसी तरह हाल तक पहुंची
जहाँ मनाया जा रहा था
पर्व आजादी का...!
...aajadi ka ek katuwa sach..
vartmaan haalaton ke sahi chitran
badhai

SABD Just Adorable said...

Bahut hi marmik kawita likhi ha

haqueequat bhi ha

so nice

lekin

palatna hoga use
aur kuch to karna hoga
ek baar uth kadi hogi to
kiski himmat ha ki koi
aankh bhi utha sake
jab tak sahegi wo
kamjori mani jayegi
aadmi ko usi ne janm diya ha
wa janani ha uski
to sabak bhi wahi sikayegi
sahi rasta bhi wahi dkhayegi
thod do us haath ko jo udane lage
bas chandi ban jao sahar ke liye

mamta ki murat bhi bano
chandi bi kabhi bano

Dr. kavita 'kiran' (poetess) said...

Nari ke liye azadi nahi sirf agni pariksha hai.yahi to vidambna hai is desh ki.

Shah Nawaz said...

दिल को झकझोर देने वाली रचना........ क्या कहें हम स्वयं ही इन सब के लिए ज़िम्मेदार हैं, और कर सकते हैं फिर भी नहीं करते ऐसे लोग का मुकाबला.

Virendra Singh Chauhan said...

Dimpal ji ..kya karen, Durbhagay se yahi sachhai hai.

bahut hi achhi prastuti.

अरुणेश मिश्र said...

यह त्रासदी लगभग पूरे देश मे है . यही आजादी . इन्ही की आजादी ।
प्रशंसनीय रचना ।

ललित शर्मा said...

स्कूल कॉलेजों के बाहर भीतर,सड़क पर, चौराहों पर यही घट रहा है।

ऐसी शर्मनाक हरकते करने वाले रक्तबीज की तरह बढ रहे हैं।मैने कईयों को पीटा भी है और हवालात भी दिखाई है। कितनो को पीटेंगे यह सोचना पड़ता है।
दो दिन पहले ही एक लड़के ने लड़की के चेहरे पर तेजाब डाल दिया और बाकी तेजाब खुद पी गया।

लेकिन इसका समाधान समाज को ही करना पड़ेगा।
जब सभी जागरुक होकर सर-आम-दंड देगें तभी इस तरह की घटनाएं रुक पाएगीं।

मानस को आन्दोलित करती अच्छी कविता


ब्लॉग4वार्ता की 150 वीं पोस्ट-पधारजो

RAJWANT RAJ said...

mai hr vo [shmi ldki ] se khna chahungi -----------
''siti bje ansuna kro
kagz ki pudiya andekha kro
bus wali bdtmiji pr jor se dpto
duptte ki jgh jins - shrt phno
pr ye sb krne se phle nirbhy bno kyon ki tumhari aajadi itni ssti nhi ki inke aage ghutne teke . waise bhi aise logo ka jmeer bhut drpook hota hai.nirbhy bno . bhy se apne ko aajad kro .ye aaj ke vkt ka tkaja hai .

बेचैन आत्मा said...

..किसी तरह हाल तक पहुंची
जहाँ मनाया जा रहा था
पर्व आजादी का...!
..शानदार तरीके से आपने कविता का अंत किया और आजादी पर एक प्रश्न चिन्ह लगा दिया.
..स्कूल जाती छात्राओं के दर्द, गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे लोगों की त्रासदी, बेरोजगार नवयुवकों की हताशा, दलित-दीन के साथ हो रहे अत्याचार, धर्म के नाम पर देश को बांटने की हो रही पुरजोर कोशिश, अपराधियों को सजा ने देने पाने की राजनैतिक विवशता आदि कई मुद्दे हैं जो हमारी आजादी पर प्रश्न चिन्ह लगा जाते हैं. वहीं दूसरी ओर विकसित हो रही अर्थव्यवस्था के लाभ का कुछ सीमित लोगों में बंदरबांट, आम समझदार लोगों के ह्रदय को छलनी किए देता है.
..आपकी कविता ने निश्चित रूप से हमें और बेचैन कर दिया.

Anand said...

Likha to aapne bahut khoob hai, Sachhai bhi hai,
par swatntrata diwas ke mauke par thodi sakaratmak soch jyada fabti.

चेतना के स्वर said...

achchha likha hai. kuch kahne ka man nahi hota wakai.
bus aap ek ye post padhna or fir apne prashn ka jawab khojna

http://chetna-ujala.blogspot.com/2009/12/blog-post_26.html

मनोज कुमार said...

कविता नारी अथवा उससे संबंधित कड़वे सच को बयान करती है। कविता उस पूरी हालात पर चिंता करने को प्रेरित करती है।

Megha Pareek said...

mind blowing
aapne sach ko shabdo me bahut acha buna hai.very very thanx ki aapne ye baat uthai.hats off to you.... un sari ladkiyon ki taraf se jo is kavita ko haqiqat me jee rahi hai.
hope ki aapki poem se situation pe kuch asar pade

Megha Pareek said...
This comment has been removed by the author.
Megha Pareek said...
This comment has been removed by the author.
Megha Pareek said...

waiting for your next poem or article or whatever u write......

Amit K Sagar said...

theek-thak likhaa hai!

likhtee rahiye!

APNA GHAR said...

dimpal jii ye ek hakikat hai jo likhi aapne .lekin kisi se umeed naa kare , yahan khud ko aage aana hoga..bahut hee marmik sachchai bayan karti rachna

अंकुर द्विवेदी said...

बहुत ही सुन्दर कविता, बधाई।

Anonymous said...

nice poetry as i already praised yr work...ab aur kya likhu..aapki kavita ek sahi samay par ek sahi issue ko uthaa rahi hai..

Mithilesh dubey said...

क्या कहूँ, झकझोर दिया आपने इस रचना के माध्यम से ।

हर्षिता said...

समसामयिक समस्या को उजागर करती बेहतरी रचना धन्यवाद डिम्पल जी।

रवि धवन said...

शब्द बोल ही नहीं रहे दिखा भी रहे हैं। आजादी का सच बयान किया है आपने।

सुमन'मीत' said...

बहुत ही सटीक रचना............... बेह्तरीन........

सुमन'मीत' said...

बहुत ही सटीक रचना............... बेह्तरीन........

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सार्थक लेखन ....सच को बयाँ करता हुआ ...

Rajat ghildiyal said...

amazing flow of poetry...

touchy as wel as sensible..
great work ..wish u best

ajnabi said...

again a nice one...

Udan Tashtari said...

सोचने को मजबूर करती रचना.

राजभाषा हिंदी said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

ललित शर्मा said...

बेहतरीन उम्दा पोस्ट

आपकी पोस्ट ब्लॉग4वार्ता पर

चेतावनी-सावधान ब्लागर्स--अवश्य पढ़ें

आशीष/ ASHISH said...

Sharmnaak Satya!

महफूज़ अली said...

बहुत सुंदर और सार्थक कविता...

'अदा' said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति..!

sanu shukla said...

sarthak rachna ..!

Sonal said...

bahut hi sundar rachna....
Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

A Silent Silence : Zindgi Se Mat Jhagad..

Banned Area News : Amritsar police seize fake currency worth Rupees 9,00,000

माधव said...

जबरदस्त कटाक्ष

shikha varshney said...

यही तो दुखद है आजादी का दुरूपयोग .

kalpna said...

bahut hi achha likha hai ji

निर्मला कपिला said...

अज किस कदर लडकियों का बाहर निकलना दूभर होता जा रहा सटीक दृष्य दिखाया है। मुझे नही लगता कि सही अर्थों मे औरत कभी आज़ाद हो सकती है। बहुत अच्छी लगी कविता। जय हिन्द। आशीर्वाद।

Raj said...

Bahut marmil rachna hai Dimple ji. Mujhe ek purana geet yaad aaya is sandarbh me...

"Aurat ne Janam diya Mardon ko,
Mardon ne usse Bazar diya,
Jab jee chaha masla kucchla,
Jee chaha "Dutkar" diya".

Babli said...

बहुत ख़ूबसूरत और शानदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई !

राकेश कौशिक said...

उत्कृष्ट रचना

anjana said...

अच्छी प्रस्तुति.

u 9 said...

bahut mast likha hain...

संजय भास्कर said...

शब्द बोल ही नहीं रहे दिखा भी रहे हैं। आजादी का सच बयान किया है आपने।

HUMMING WORDS PUBLISHERS said...

Get your book published.. become an author..let the world know of your creativity or else get your own blog book!


www.hummingwords.in/

आशा ढौंडियाल said...

ye to lagbhag har ladaki ki vytha hai jise aapne shabd chitr me dhla hai......aur sabhi muk darshak ki bhanti dekh kar bhi anjan bane rahte hai.....
achhi bhav purn rachna..

Akanksha~आकांक्षा said...

बहुत खूब, सोचने पर मजबूर कर दिया...शानदार रचना..बधाई.

स्वाधीनता-दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...जय हिंद !!

अजनबी said...

nice ! dear ur very aggressive poetess.
god bless you

veenu said...

angry young lady

Dhirendra Giri said...

plz read ..naththa zaroor marega

http://goswamijournalist.blogspot.com/2010/08/blog-post.html

Babli said...

*********--,_
********['****'*********\*******`''|
*********|*********,]
**********`._******].
************|***************__/*******-'*********,'**********,'
*******_/'**********\*********************,....__
**|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
***`\*****************************\`-'\__****,|
,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
\__************** DAY **********'|****_/**_/*
**._/**_-,*************************_|***
**\___/*_/************************,_/
*******|**********************_/
*******|********************,/
*******\********************/
********|**************/.-'
*********\***********_/
**********|*********/
***********|********|
******.****|********|
******;*****\*******/
******'******|*****|
*************\****_|
**************\_,/

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

Rocking rathi said...

Thousands laid down their lives so
that our country is breathing this day
Never forget their sacrifice…

*Happy Independence Day*

Rocking rathi said...

देखी जो मानवता की बिलखती हुई ये तस्वीर
आँखों में मेरे अश्क भर गए,रोई कलेजे में पीर

Rocking rathi said...

On 15th Aug 1947, India got freedom
Today we are miles apart
but I wanna reach across the miles
and say i'm thinking of
you in a very special way
Happy independence day!!!

Rocking rathi said...

!!!==--..__..-=-._;
!!!==--..@..-=-._;
!!!==--..__..-=-._;
!!
!!
!!
**HAPPY INDEPENDENCE DAY.**
SAARE JAHAN SE ACCHA
HINDUSTAN HAMARA.

vallabh said...

bilkul sajeev evam marmik chitran.. bahut bahut badhai...

डॉ. मोनिका शर्मा said...

dil ko chhoone wale bhav hain..... dimple kvita bhut achhi lagi.

Shekhar Suman said...

mann ko kachotti huyi rachna...
mann dukhi ho gaya...

rishi chandra said...

bahut achhi lagi...aapke tippani ke liye bhi dhanyawad

talib د عا ؤ ں کا طا لب said...

मानस को आन्दोलित करती अच्छी कविता

Anupriya said...

aapki kavita sirf kavita nahi sabhi aurto ki kahani hai...sach kahu, mujhe to meri hi kahani lagi...fark bas itna hai ki sahte sahte ek din sabr ka baandh bhi tuta aur kai batamizo ka sar bhi...aakhir koi kab tak sahe...khud ke liye khud hi khada hona padta hai...thanks alot 4 writting such a meaningful lines.

Main Hoon Na .... said...

आज़ादी का जश्न
कितने ही अनछुए प्रश्न
आज़ाद है तो सही यह वतन
इक बात दिल से कि
क्यों हो रहा है पतन

अतिसुन्दर रचना झकझोरने वाली रचना , माँ सरस्वती का आशीर्वाद है आप पर

Anonymous said...

Wow... this site is so popular. I just wanted to know how do you monetize it? Can you give me a few advices? For example, I use http://www.bigextracash.com/aft/2e7bfeb6.html

I'm earning about $1500 per month at he moment. What will you recommend?

.........................................Maitreya Manoj said...

I went through your newest poem recently. It describes a tregic picture of our society in a heart touching way but are we able able to see whole picture in full clarity? Is it an image or a vision? we all see this type of incidents daily in newspaper and on talivision. Now let us try to see it in a broad perspective. How the girls will feel when any boy is paying not any kind of attention to them when they are going out etc. One can simply know by putting herself in the place of any such girl who are labelled "sister type" or by imaging such a situation where she is feeling that she is not worth of any attention. Both girls and boys are naturally tendency of attraction to each others but they don't know the ways to express it in generous ways because they are not tought.
That doesn't mean that I am advocating the cheap actions of idiot guys but writing this all for discuss the means of handle such situations. In response to such situations some people advice to girls to become aggressive and some so called "helper boys" try to eradicate the proble m by eradicating those "idiots". Are both the ways have become any helpful till today? We all know the answer or who don't know, may simply see the statistics of such events, so we can see the failure of the ways. In my opinion that stupids are just mently insane childs in big bodies and have childish way to express themselves. When a child plays with knife, he have risk to harm all three things, himself, other persons and the knife itself.
Why the ways are failure because we don't know the human nature completely. So what should we do? Can we carry the situation as it is, no. Should girls become policeman type, I think they will be no more girls. Should there be some policeman in boys, then they are two groups just like Congress and BJP.
In my opinion every person has a power given by nature to solve his or her problem individually and this power doesn't need to take fight or flight attitude like animals. We only need to trust our inner power and intelligency. If anybody knows about self than that person is always have edge over such stupid person or stupid things.
Our problem is that we are seeking anybody more powerful than us like government or freedom fighters to solve our problems and this is where we lose our trust in self and the problems are replaced by other problems.
If any girl knows about self, then she can handle her life without fear and without being aggressive unnecessarily.
The views given here are my personal opinions and I don't say that only I am right but just want a thinking of reader. Keen to know other opinions.

regards
www.maitreyamanoj.blogspot.com

अरुणेश मिश्र said...

नयी पोस्ट डालें ।

Anonymous said...

वो अक्सर फूल परियों की तरह सजकर निकलती है
मगर आंखों में इक दरिया का जल भरकर निकलती है।

कंटीली झाड़ियां उग आती हैं लोगों के चेहरों पर
खुदा जाने वो कैसे भीड से बचकर निकलती है।

जमाने भर से इज्जत की उसे उम्मीद क्या होगी
खुद अपने घर से वो लड की बहुत डरकर निकलती है।

बदलकर शक्ल हर सूरत उसे रावण ही मिलते हैं
कोई सीता जब लक्ष्मण रेखा के बाहर निकलती है।

सफर में तुम उसे खामोश गुडि या मत समझ लेना
जमाने को झुकी नजरों से वो पढ कर निकलती हैं।

खुद जिसकी कोख में ईश्वर भी पलकर जन्म लेता है
वही लड की खुद अपनी कोख से मरकर निकलती है।

जो बचपन में घरों की जद हिरण सी लांघ आती थी
वो घर से पूछकर हर रोज अब दफ्‌तर निकलती है।

छुपा लेती है सब आंचल में रंजोगम के अफसाने
कोई भी रंग हो मौसम का वो हंसकर निकलती है।

http://chetna-ujala.blogspot.com

VIJAY KUMAR VERMA said...

बहुत ही सुन्दर कविता, बधाई।

usha rai said...

लडकियों के लिए कदम कदम पर संघर्षों का जाल है ! आजादी का उत्सव तब तक पूरा नहीं होगा जब तक हर मनुष्य को अपने भीतर से आजादी को महसूस नही करता ! बहुत सार्थक पोस्ट बधाई !

Kailash C Sharma said...

वस्तविकता के बहुत करीब एक रचना...हर शहर की लड़की को यह झेलना पड़ रहा है पर हम सभी मौन है ......क्या यही है आज़ादी?....
http://sharmakailashc.blogspot.com/

naarii said...

very nice

santosh kumar said...

चली कॉलेज की ओर
कुछ कदम कर रहे थे
उसके कदमों का पीछा
फर्राटे से भागती एक बाइक
आया झपटा
जो ले उड़ा उसका दुपट्टा
किसी तरह हाल तक पहुंची
जहाँ मनाया जा रहा था
पर्व आजादी का...!


पहली बार आपको पढ़ने का मौका मिला और बहुत अच्छी कविता पढ़ने को मिली धन्यवाद !

Gaut said...

bahut hi marmik kavita ke liye shukriya aur aapko dheron badhaiyan...

Gautam Priye said...

Marmik kavita ke liye shukriya aur aapko badhaiyan evam shubhkamnayen...

Shekhar Suman said...

aisa lagta hai jaise mere blog ki taraf ka raasta bhul gayin aap....
bahut dino se dekha nahi aapko....
koi galti ho gayi kya humse....

kumar zahid said...

फर्राटे से भागती एक बाइक
आया झपटा
जो ले उड़ा उसका दुपट्टा
किसी तरह हाल तक पहुंची
जहाँ मनाया जा रहा था
पर्व आजादी का...!

AAzaadi!!??
sawlon k katghare mein khadi hoti rahegi..
hum use chhod nahi sakte voh hamein bacha nahi sakti...uffff

Vijay Pratap Singh Rajput said...

किसी तरह हाल तक पहुंची
जहाँ मनाया जा रहा था
पर्व आजादी का...!

लाजवाब...बहुत सार्थक कविता.

'साहिल' said...

हमारे समाज और देश का दुर्भाग्यपूर्ण सत्य को बहुत अच्छे शब्दों में प्रस्तूत किया है आपने............बहुत अच्छी कविता है

अनिल कान्त said...

Superb !

Rajnish tripathi said...

आपकी कविता पढ़ के मन में अजीब सी संजीदगी का एहसास हो रहा है। देश आज़ादी के सपनो में खोए जा रहा है लेकिन हकीकत तो कोई देख नही सकता क्योंकी हकीकत से सब को डर लगता है।

BRIJMOHAN BISSA said...

मेरे ब्लाग पर आपका मार्गदर्शन निःसंदेह मुझे आगे भी लिखने की ताकत देता रहेगा ,,,, आपने समय निकाल कर अपनी बहुमूल्य टिप्पणी प्रेषित की ॰॰॰॰॰ आपका बहुत बहुत आभारी हूं ॰॰॰॰॰
"पर्व आजादी का"॰॰॰॰ आपकी रचना बहुत प्रभावशाली है ॰॰॰॰॰ ॰॰॰॰॰ ॰॰॰॰॰ शुभकामनायें

गिरीश बिल्लोरे said...

जी
इससे कैसे निज़ात देगा समाज
ताज़ा पोस्ट विरहणी का प्रेम गीत

अपूर्ण said...

आपको भी दिवाली की बहुत बहुत शुभकामनाएं |

जो रोशन करोगे दिवाली , ईद-होली में मिलोगे गले|
क्यों हो किसी दर पे अँधेरा, क्यों किसी का घर जले|

babanpandey said...

दीप पर्व दीपावली मंगलमय हो

Royashwani said...

अगर मुझे केवल कविता के बारे में अपनी प्रतिक्रिया देनी हो तो निःसंदेह यह एक अच्छी कविता है. अगर आज़ादी के बारे में कुछ कहना हो तो मैं कहूँगा के स्वतंत्रता के दुरूपयोग से यह स्वतः छिन जाती है. कविता को सुखान्त की तरफ मोड़ना श्रेयस्कर हो सकता था. हमारे समाज में अच्छे और बुरे दोनों तरह के लोग हैं. हमें बुरे लोगों को केवल बुरा बता कर ही नहीं छोड़ देना है. सबको पटरी पर लाने की आवश्यकता है. आखिर देश में कानून भी तो कोई चीज़ है. हाँ...कुछ हिम्मत की दरकार ज़रूर है. इस सामाजिक समस्या को सुन्दर कविता के माध्यम से उठाने के लिए बहुत बहुत साधुवाद. अश्विनी रॉय

डॉ० डंडा लखनवी said...

सराहनीय लेखन........हेतु बधाइयाँ..ऽ ऽ ऽ ऽ ऽ
+++++++++++++++++++
चिठ्ठाकारी के लिए, मुझे आप पर गर्व।
मंगलमय हो आपके, हेतु ज्योति का पर्व॥
सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

Nithalla said...

हकीकत बयाँ कर रही है ये कविता, बहुत खूब

dwivedijournalist said...

really appreciable............

daanish said...

बहुत ही सशक्त
और
स्तरीय रचना

अभिवादन .

Manav Mehta said...

बेहद भावपूर्ण अभिव्यक्ति.........

http://saaransh-ek-ant.blogspot.com

Prabha said...

dil ko chu gai... bahut hi sundar likha hai aapne...

Anonymous said...

ab hum isko kiya kahe ki jis desh me nari ki poja hoti hai wahi nari ke sath istarah ka vevahar bhi
man hi man hum itrate nahi thakte ki hamari parampara aor sanskriti advitiye hai kintu aglehi pal kch aesa dekhne ko milta hai ki man dukhi ho uthta hai

rjd___vidhayak said...

aorat ka nam hi bardasht pedaish se mot tak bardasht hi bardasht
magar dostoon apne jantebhar me to itna julm na karo
kion ki jab 10 sarwale ravan ka julm nahi chala to hum tum to sirf 1 sar hi rakhte hai apne kandhe pe

shekhar suman said...

मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA said...

आपके जीवन में बारबार खुशियों का भानु उदय हो ।
नववर्ष 2011 बन्धुवर, ऐसा मंगलमय हो ।
very very happy NEW YEAR 2011
आपको नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें |
satguru-satykikhoj.blogspot.com

Raj said...

ह्रदय को छूती है आपकी रचना !

meena said...

jai shri krishna.....
mast

Rajendra kaumar said...

ये कैसी आजादी.....सार्थक कविता....

Shanker Bakshi said...

अंत खूबसूरत है , क्यूंकि मैंने टाइटल पढ़ा नहीं था