Tuesday, April 23, 2013

बाबा ऐसा वर ढून्ढो








 पापा लड़का देख रहे हैं, मेरी शादी के लिए...रोजाना एक-दो रिश्ते आते  हैं..लेकिन पापा को अभी तक कोई इतना पसंद नहीं आया की उसको हाँ कर दें..पापा लडके की सूरत देखते हैं... सीरत देखतें है...वो दिखने  में Smart  होना चहिये...Personality देखते है...वो क्या करता है…क्या Job हैं, उसकी Job  और मेरी Job में तालमेल हो...क्या पढाई  की हैं...बात करते हैं, ताकि पता चले कि उसका स्वभाव कैसा हैं...उसके पापा क्या करते है...घर में कौन-कौन है..खानदान कैसा है, कहाँ रहते है...मकान अपना है या नहीं..इसलिए देखते हनी ये सब, ताकि उनकी बेटी हमेशा खुश रह सके...वो लड़का और उसका परिवार अपने  पापा की परी को उतना ही प्यार करे जितना मेरे पापा मुझसे करते है।
सब ठीक है पापा, आप जिसे भी चुनोगे वो Best होगा, I Know that...पर पापा में कुछ और भी  चाहती हुं..मेरे लिए Life का मतलब सिर्फ Enjoy करना नहीं है...जो मुझे खुश रखे…ये ठीक है...जो एक अच्छी Job में हो ..ये ठीक है ..परिवार अच्छा हो ..ये ठीक है...सब लोग मुझसे प्यार करें ...ये ठीक है...सब कुछ देखना जायज है।
पर पापा ...पापा, में सिर्फ एक बात चाहती हूँ ...वो ये पापा  कि  वह  एक बहुत ही अच्छा इंसान हो ...उसमे इंसानियत कूट-कूट कर भरी हो ...कभी किसी चींटी को भी न दुखा सके ..सबके दुःख में दुखी हो जाये ...सभी के दुःख दूर करने की कोशिश करे ..दूसरों की ख़ुशी में खुश हो ले..उसकी Job सिर्फ मजे करने के लिए या मेरी और अपनी जिन्दगी को खुशहाल बनाने तक सिमित न हो… उसकी Job,  उसकी Salary , उसका Promotion इन सभी के पीछे न जाने कितने लोगो की दुआएं हो ...एक ऐसा लड़का जिसके लिए अपने Mummy -Papa , भगवान से भी बढ़ कर हो ... जिसका मन साफ़ हो, इरादे पाक हो ..जिसकी बातों में सच्चाई हो..जिसके काम नेक हो ...जिसका चेहरा चाहे खुबसूरत न हो ..पर दिल...दिल बहुत खुबसूरत हो ..आइने की तरफ साफ़,पानी जैसा सरल ....ऐसा हैं मेरे सपनों का राजकुमार ...जिसके मन में नारी जाति के लिए  बहुत सम्मान और आदर की भावना हो…जो सिर्फ  मेरे लिए ही  न सोचे...अपने परिवार ...समाज ...और इन सबसे आगे बढ़कर अपने देश के लिए सोचे...और सिर्फ सोचे ही नहीं बल्कि ऐसा काम भी करे ....जिसके लिए समाज का दायरा बहुत बड़ा हो...एक जाति या किसी भी ऐसे संकुचित दायरे में सिमटा हुआ न हो....हम दोनों मिल कर ऐसी कविताये लिखे जो एक Change लाये...प्यार की भावना फेलाए...अपनेपन की लहर लाये।
राह चलते भी अगर कुछ अच्छा करने का मौका मिले तो हम जरुर करे ...मेरे हर अच्छे फैसले में जो मेरे साथ हो…और जिसके हर सही फैसले में, मैं उसमे साथ रहूँ....और ये साथ बहुत से चेहरों पर मुस्कराहट लेकर लाये…… पापा ....आप समझ  रहें हैं न, कि  मैं क्या चाहती हूँ  ....... 

25 टिप्पणियाँ:

अरुन शर्मा 'अनन्त' said...

आदरणीया आपके विचार बेहद उच्च कोटि के हैं एवं बहुत ही सुन्दर हैं भगवान आपकी मनोकामना शीघ्र अति शीघ्र पूर्ण करें. सादर

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

अच्छी प्रस्तुति .... काश आज हो कोई भला इंसान

प्रवीण पाण्डेय said...

अतिशय शुभकामनायें मंगलमय भविष्य के लिये।

दिलबाग विर्क said...

आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
कृपया पधारें

डॉ. मोनिका शर्मा said...

आपके मन की करे ईश्वर .....शुभकामनायें

कालीपद प्रसाद said...


बहुत उच्च विचार है -कामनाएं पूरी हो

कालीपद प्रसाद said...


बहुत उच्च विचार है -कामनाएं पूरी हो
डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
latest post बे-शरम दरिंदें !
latest post सजा कैसा हो ?

संजय भास्‍कर said...

शुभकामनायें मंगलमय भविष्य के लिये

Rajendra Kumar said...

बहुत ही सुन्दर विचार,अतिशय शुभकामनायें मंगलमय भविष्य के लिये।

दिगम्बर नासवा said...

छोटी सी चाहत ... भले इंसान की चाह ही सब कुछ है ... अच्छा लिखा है बहुत ..

Mukesh Kumar Sinha said...

papa jarur samajh jayen...

Kailash Sharma said...

बहुत उत्कृष्ट सोच...शुभकामनायें!

राकेश कौशिक said...

बहुत दिनों बाद आपके ब्लॉग पर आना हुआ

"निश्चल मनोभावों" को पापा जानते होंगे अगर नहीं तो अब तो ये पुकार निश्चित ही उन तक पहुँच गई होगी - आशीष और शुभकामनाएं

Anonymous said...

That is really interesting, You are an excessively skilled blogger.

I've joined your rss feed and look ahead to looking for extra of your fantastic post. Additionally, I have shared your web site in my social networks

Have a look at my page - Order Vydox

Anonymous said...

I like the valuable info you provide in your articles. I will bookmark your weblog and
check again here frequently. I am quite sure I will learn many new
stuff right here! Good luck for the next!

Also visit my blog :: Pure Garcinia Cambogia

प्रतिभा सक्सेना said...

अनायास ही मानस की पंक्तियाँ ध्यान में आ गईं -
'सुनु सिय सत्य असीस हमारी ,
पूजिहिं मन-कामना तुम्हारी !'

"MURKHA --- RAAJ" said...

you need a god like krishna or kaamdev, humans are made of both goods&evils....

Anonymous said...

Excellent way of telling, and pleasant article to take data concerning
my presentation focus, which i am going to convey in school.



Check out my weblog - Acai Fruit

Anonymous said...

This post presents clear idea in favor of the new users of blogging, that truly how to do blogging
and site-building.

My homepage - Test Force Extreme

Anonymous said...

This design is spectacular! You certainly know how to keep
a reader entertained. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my
own blog (well, almost...HaHa!) Wonderful job. I really
loved what you had to say, and more than that, how you presented it.
Too cool!

Take a look at my blog post ... seo knowledge

Anonymous said...

Have you ever considered about including a little bit more
than just your articles? I mean, what you say is important and everything.
But just imagine if you added some great visuals or video clips to give your posts more, "pop"!
Your content is excellent but with pics and clips, this website could
definitely be one of the very best in its niche.
Very good blog!

Also visit my webpage watches

Anonymous said...

Can I submit your put up to my weblog? I will add a one-way link to your forum.
That’s one actually sweet post.

Feel free to surf to my webpage: having trouble getting pregnant the third time

Anonymous said...

Wow, this post is pleasant, my younger sister is analyzing these kinds of
things, thus I am going to inform her.

Feel free to visit my web site :: womens victorinox swiss army

Anonymous said...

Currently it seems like Movable Type is the
top blogging platform out there right now. (from what I've read) Is that what you're using on your blog?


My website; Liposom

Anonymous said...

Anonymous Anonymous said...
hi,ishvar kare tumhe tumhari pasand ka ladka mil jaaye,jesa bhi var chahiye just ask good ki tumhare papa ki bhent use ho jaaye,
wese sorry but I admit ki tum mujhe bahot pasand thi,but mere vichaar itne saaf suthre nahi rahe,aur m achaaiye m kabhi tumhari barabri nahi kar sakta,

agar sache dil se ishvar se maangoge to jaroor mil jaayega
thathastu
or haan blog likhte raha karna,kya h ki ab aap se milne ki himmat to nahi kar paate per blog ko padh k aapke haal chal jaanke khushi hoti h
I miss u